एक शिष्य जो गुरु के अधीन शिक्षा लेता हैं और गुरु के निर्देशों का पालन करते हुए अपना अभ्यास जारी रखता हैं, वह सफलतापूर्वक समाधि तक पहुंच ही जाता है ! लेकिन जो भक्त गुरु के बिना खुद अभ्यास करते हैं, वे या तो कुछ प्राप्त करते हैं, या वो कही बीच में फस जाते है !  ध्यान के दौरान व्यावहारिक अनुभवों का उनको कोई सबूत नहीं मिलता है, जिसके कारण वे योग अभ्यास के पथ को छोड़ देते हैं।
इन प्रकार के भक्तों की सुविधा के लिए, हमने पापाजी के सत्संग को और उनके अनुभवों को एकत्र किया है और उन्हें आपके ज्ञान के लिए इस वेब साइट द्वारा प्रस्तुत किया, ताकि वे योग अभ्यास के सही रास्ते पर जाएं !
गुरुदेव पापाजीका मार्गदर्शन इस वेब साइट द्वारा सबको मिलता रहेगा ! और वह हम नियमित रूप से लिखित रूप में आपके लिक लाते रहेंगे !
हम कामना करते है भगवान कि कृपा और पापाजी के निर्धारित ध्यान की विधियों का अनुसरण करके सभी भक्तगण समाधी तक पहुंच जाये ! धन्यवाद !
__________________________________________________________________

Instructions :

1. Discussion Forum On Spirituality :
Devotee (Sadhak) can post his article on this web site Hindi, English or Marathi language. He/She can also ask questions about Yoga and Spirituality.

2. Awareness About Breath And Dhyan Yoga :
The Nath Tradition (Sampradaya) is a timeless lineage of spiritual masters, connected with infinite consciousness through the greatest Yogis of all ages. These ancient Yogis discovered that the secret of cosmic consciousness is intimately linked with breath mastery. Web site visitor can read here articles on Dhyan Yoga, Kundalini Yoga posted by Mandir or other devotees.

3. How to Post Articles on web site :
One can send his/her articles to gurupremi123@gmail.com
Articles should be in descriptive nature and it would be in either Hindi, English or Marathi language.
If writer does not want to disclose his/her name please mention your name as Nath Bhakt/Guru Premi etc.

4. Monthly Parayan, Nathpanthi Havan-Bhandara, Festivals :
Schedule dates of monthly Parayan, Havan and Bhandara will be display on web site in advance.
Devotees should visit Mandir site regularly.